मुसलमान होने के बाद जब पहली बार काबा को देख क्या हुआ था, मोहम्मद यूसुफ ने हैरान….

पिछले दिनों मदीना पाक में पेश आने वाले वकिये पर पाकिस्तान के पूर्व क्रिकेटर शाहिद अफरीदी और मोहम्मद यूसुफ ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि सियासी दुश्मनी निभाने के लिए हरम की हुरमत तक लोग भूल गए शाहिद अफरीदी ने अपनी ट्वीट में कहा है रौज़ा रसूल वह जगह है जहां तेज़ आवाज करन भी मना है ।

आपको बता दें बृहस्पतिवार को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ जब मस्जिद नबवी के पास पहुंचे तो वहां इमरान खान के सपोर्ट ने चोर चोर के नारे लगाए जिसको लेकर दुनिया भर के मुसलमानों में ग़म गुस्सा है सियासी दुश्मनी में मस्जिद नबवी की हुरमत को पामाल कर रहे हैं सऊदी सरकार ने भी सख्त एक्शन लेते हुए कार्रवाई करने का हुक्म जारी कर दिया है।

इस पर पाकिस्तान के पूर्व क्रिकेटर मोहम्मद यूसुफ ने अपनी ट्वीट में कहा मैंने तो कभी मक्का मदीना नहीं देखा था। मुसलमान होने के बाद पहली बार जब खाना-ए-काबा को देखा तो चीख निकल गई थी । मोहम्मद यूसुफ ने कहा रौज़ा रसूल पर गया तो आंखों से आंसू जारी हो गए थे । ये वह जगह है जहां पहुंचकर रोंगटे खड़े हो जाते हैं उन्होंने कहा आज रोजा रसूल पर जो कुछ हुआ वह देखकर अल्लाह से पूरी उम्मत की तरफ से तुझ से माफी मांगता हूं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *