खून से सना सिंहासन, क्या सच में औरंगजेब इतना कट्टर था जितना बताया जाता है, जबकि अशोक सम्राट ने….

अपने भाईयों की हत्या करके सिंहासन कब्जा करने का सबसे बड़ा रिकॉर्ड “सम्राट अशोक” के नाम है। कभी आपने अशोक को इसके लिए गाली खाते देखा है ? नहीं देखा होगा। यद्यपि इसी संदर्भ में महाभारत का युद्ध भी हुआ परन्तु मैं इसका उदाहरण नहीं दूंगा क्योंकि कुछ लोगों की धार्मिक भावना आहत हो जाएगी।

नेपाल में तो एक राजकुमार प्रिंस दीपेंद्र शाह ने 1 जून 2001 को अपने राजपरिवार के 9 लोगों की हत्या कर दी थी। मरने वालों में उनके पिता राजा बीरेंद्र, माता रानी ऐश्वर्या और शाही परिवार के 7 और सदस्य शामिल थे। उसको भी किसी ने गाली खाते नहीं देखा होगा। इस संदर्भ में सारी गाली औरंगजेब के हिस्से में आई।

महान अशोक ने अपने 99 भाइयों का सिर काट के उनकी लाश कुंए में फेंक दी और राजा बन गया।इसी सम्राट अशोक ने अपने दरबार में ही 500 अधिकारियों का गला तलवार से रेत के उनके सिरों को उनके धड़ से अलग कर दिया था इसी अशोक ने लाखों को कलिंगा‌ युद्ध में मार दिया। जिंदा बचे लाख बच्चों और औरतों को कलिंग से लाकर मगध में बेच दिया पर इसके लिए कभी सम्राट अशोक की आलोचना नहीं होती।

मगर औरंगजेब की इसी काम के लिए आलोचना होती है क्योंकि औरंगजेब ने भाई दारा शिकोह समेत कईयों की हत्या करवाई और बाप शाहजहां को कैद में रखा मगर सहिष्णु , साहित्यकार कलाप्रेमी और अच्छे चरित्र के दारा शिकोह ने अपने बाप शाहजहां के साथ मिलकर क्या किया था ? धोखे से अपने सगे भाई औरंगजेब को जान से मारने की कोशिश।

तब जब शाहजहां और दारा शिकोह की साज़िश के तहत फैलाए शाहजहां की बिमारी की खबर सुनकर औरंगजेब अपने पिता से मिलने डेक्कन से आगरा वापस आ रहे थे। यह कौन‌ सी भाई और बाप की मुहब्बत थी ? लड़ाई में जो बहादुर था वह जीता , कमज़ोर और‌ भाई की पीठ में खंजर मारने की कोशिश करने वाला दारा शिकोह मारा गया।

बाप शाहजहां कैद‌ किए गये तो जेल‌ की किसी काल‌ कोठरी में कैद‌‌ नहीं किया बल्कि आगरा के लालकिले के आलीशान महल में उसी जगह रखा जो शाहजहां ने अपने लिए बनवाया था और अपनी बड़ी बहन जहांआरा को 24×7 बाप की खिदमत के लिए लगाया। बस दारू बंद करा दी अशोक का सिंहासन के लिए नरसंहार अधिकतम था पर अशोक में महानता खोजी जा सकती है और औरंगजेब को वैसे ही उससे छोटे काम के लिए गाली। क्यूं ?

औरंगजेब इस्लामिक कट्टरपंथी था?? औरंगजेब का सेनापति हिंदू था, 7 में से 5 सेनापति हिंदू थे। इतनी कट्टरपंथी? दरअसल राजपाट की राजनीति के अलावा इसमें क्या कट्टरपंथी थी‌ ? मगर सबके माइंडसेट में सिर्फ औरंगजेब में ही कट्टरपंथी दिखता है। मशहूर इतिहासकार और शायर थे अल्लामा शिबली नोमानी, जिन्होंने कहा है कि ” ले दे के सारी दास्तां में तुम्हें याद है इतना, औरंगजेब हिंदुकुश था.. सितमगार था, जालिम था।”

लेखक Mohd Zahid : लेखक की बात से चैंनल का मुत्तफ़िक़ होना ज़रूरी नही

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *