वो वीर जिसने पाकिस्तानी टैंक से अकेला लड़ गया, आज उनका जन्मदिन है, अफसोस उनके लड़के को….

वीर अब्दुल हमीद भारतीय सेना 4 ग्रेनेडियर में ऐसे एक सिपाही थे जो 1965 के भारत पाक युद्ध के दौरान खेमकरण सैक्टर के आसल उत्ताड़ में अद्भुत वीरता का प्रदर्शन करते हुए शहीद हो गये,शहादत से पहले परमवीर चक्र अब्दुल हमीद ने मात्र अपनी “गन माउन्टेड जीप” से उस समय अजेय समझे जाने वाले पाकिस्तान के “पैटन टैंकों” को नष्ट किया था।

आपका जन्म उत्तर प्रदेश के गाज़ीपुर ज़िला के धामपुर गांव मे 1 जुलाई 1933 को हुवा था आप एक साधारण परिवार से थे पिता टेलर थे इसलिये आपने अपनी प्राईमरी शिक्षा गांव के ही प्राईमरी मदरसा मे हासिल की 14 साल की उम्र मे आप का निकाह रसूलन बीबी से हुआ आपके 4 बेटे और एक बेटी है 2 बेटो ने पिता की तरह सेना मे सेवाये दी है जबकि दुर्भाग्य से आपके दूसरे बेटे अली हसन कोविड के दौरान सही इलाज न मिल पाने की वजह से इन्तेक़ाल कर गये।

एक समय था जब 1965 युद्ध मे भारतीय सेना के पांव उखड़ने लगे थे लेकिन अब्दुल हमीद की वीरता ने जंग का नक्शा ही बदल दिया और पाकिस्तानी सेना को पीछे हटने पर मजबूर कर दिया। आज शहीद अब्दुल हमीद की जयंती है इस मौके पर मैं उन्हें खिराज ए अकीदात पेश करते हुए अल्लाह से दुआ करता हूं कि अल्लाह उनके दरजात बुलंद करे,आमीन।

Imtiyaz Ahmad का लेख।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *