इल्हाम ने हिजाब विरोधियों को इस तरह दिया जवाब, साबित किया पढ़ाई की राह में रुकावट नहीं हिजाब….

बेंगलुरु: पिछले कई महीनों से कर्नाटक में मुस्लिम छात्राएं हिजाब पहनने के अधिकार के लिये संघर्ष कर रही हैं हिजाब को लेकर सत्ताधारी दल के नेताओं द्वारा कई बार अनर्गल टिप्पणियां की गईं हैं। लेकिन इसी बीच कर्नाटक से ऐसी भी ख़बरें आईं जब हिजाब पहनने वाली छात्राओं ने नये कीर्तिमान स्थापित कर साबित किया कि हिजाब तरक्की की राह में रुकावट नहीं है। पहले बुशरात मतीन ने 16 मेडल जीतकर यही साबित किया था।

अब इस कड़ी में इल्हाम का नाम भी जुड़ गया है। इल्हाम ने 12वीं में कर्नाटक में सेकंड रैंक लाई हैं। जिसकी वजह से वो सोशल मीडिया पर ट्रेंड कर रही हैं। इल्हाम ने कर्नाटक बोर्ड प्री-यूनिवर्सिटी सर्टिफिकेट एग्जाम (Karnataka second Pre-University Certificate-PUC 2022) में राज्य में सेकंड रैंक हासिल की है। मंगलुरु स्थित सेंट एलॉयसियस पीयू कॉलेज में साइंस की स्टूडेंट इल्हाम को 600 में से 597 अंक हासिल हुए।

इसके बाद से इल्हाम की मीडिया और सोशल मीडिया पर चर्चा हो रही है। अपनी कामयाबी पर इल्हाम ने मुस्कुराते हुए कहा कि “कक्षा 10 दिनों के बाद से, मैंने खुद को पूरी तरह पढ़ाई पर केंद्रित किया, मैं क्लिनिकल साइकोलॉजी में अपना करियर बनाना चाहती हूं। “इल्हाम के पिता मोहम्मद रफ़ीक़ एक रिटेल चेन आउटलेट में मैनेजर हैं।

इल्हाम उनकी छोटी बेटी है इल्हाम ने कहा कि चूंकि वह दूसरी पीयू परीक्षा के लिए पूरी तरह से तैयार थीं, इसलिए उन्हें लगभग दो वर्षों के अंतराल के बाद सार्वजनिक परीक्षा लिखने में किसी तरह की परेशानी का सामना नहीं करना पड़ा। “मुझे हमारे शिक्षकों से अच्छा समर्थन मिला। मैंने प्री-बोर्ड परीक्षा में भी अच्छा प्रदर्शन किया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *