बारा कला के शमशेर ने पेश की कामयाबी की नई मिसाल,डाक्टर बन किया ज़िले का नाम रौशन

खेतासराय जौनपुर।
किसी ने क्या खूब कहा है कि आगाज़ तो कर अंजाम तेरी मेहनत खुद लिखेगी,इस कहावत को सच कर दिखाने का काम सथानीय थाना क्षेत्र के बारा कलां गांव निवासी इसरार अहमद के बेटे शमशेर ने किया है,अपने 4 भाई बहन में दूसरे नंबर पर के शमशेर ने गाज़ियाबाद के आइ टी एस सेन्टर ऑफ़ डेन्टल स्टडीज़ से दंत विज्ञान सर्जरी में मास्टर की डिग्री प्राप्त कर अपने माता पिता गांव और ज़िले का नाम रौशन किया है।

शमशेर के जीवन की कहानी भी एक फिल्म की तरह है मुस्लिम पिछड़े वर्ग में जन्मे शमशेर ने प्रारम्भिक शिक्षा खेतासराय कस्बे के के डी कालेज से प्राप्त की घर की आर्थिक स्थिति ठीक नही थी फिर डाक्टर बनने का सपना अपनी आंखों मे लिये शमशेर ने नीट परीक्षा की तैयारी शुरु की लेकिन पहली कोशिश नाकाम रही फिर भी शमशेर ने हिम्मत नही हारी और गाज़ियाबाद चले गये जहाँ उन्होने आइ टी एस सेन्टर फ़ॉर डेन्टल स्टडीज़ में दाखिला लिया जहाँ से बीडीएस और फिर ओरल एण्ड मेक्सिल्लोफेशियल सर्जरी से मास्टर डिग्री प्राप्त की।

मीडिया से बात चीत के दौरान डाक्टर शमशेर ने अपनी कामयाबी का श्रेय अपने माता पिता और गुरुओं को दिया साथ ही उन्होने कहा कि उनका सपना है कि वो अपने गांव या स्थानीय कस्बे में एक सुपर स्पेशलिटी डेन्टल अस्पताल का निर्माण कराये ताकि शहरों की तर्ज़ पर गांव एयर देहात के लोगों को बेहतर इलाज मुहैया कराया जा सके,वही डिग्री मिलने की खुशी शमशेर के गृह ग्राम पंचायत बारा कला में मिठाई बाँट कर मनाई गई,डाक्टर शमशेर के बेहद करीबी दोस्त सपा नेता ज़ैद सिद्दिकी ने गांव में मिठाई खिलाकर अपनी खुशी का इज़हार किया,इस अवसर पर ज़ैद सिद्दिकी ने कहा कि उन्हे और उनके गांव को शमशेर पर गर्व है जिसने तमाम मुश्किल रास्तो को तय करते हुवे कामयाबी की एक नई दास्तान लिखी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *