नमाज़ के समय डीजे बजा रहे काँवड़ियों को मना करने पर हुवा विवाद अब पुलिस एकतरफा…

उत्तर प्रदेश के बदायूं ज़िले मे काँवड़ियों द्वारा डीजे बजाने को लेकर हुवी मारपीट के मामले मे पुलिस ने एक ही समुदाय के 11 लोगो को गिरफ्तार किया है,घटना बदायूं ज़िले के वज़ीरगंज थाना क्षेत्र की है,जहाँ सोमवार को डीजे बजाते हुवे जल अभिषेक कर लौट रहे काँवड़ियों को स्थानीय लोगो ने नमाज़ का समय होने का हवाला देते हुवे डीजे बन्द करने के लिये कहा,आरोप है कि उसके बाद भी काँवड़ियों ने डीजे बन्द नही किया जिसकी वजह से हालात खराब हो गये।

डीजे बन्द न करने पर दोनो पक्षो मे बहस हुवी और फिर यह मारपीट मे बदल गई,काँवड़ियों का आरोप है कि स्थानीय लोगो ने उन पर पत्थरों से हमला किया,तो वो गांव के बाहर भागे और पुलिस को सूचना दी, पुलिस के अनुसा कांवड़ियों से मारपीट के मामले में केस दर्ज कर लिया गया और अब तक 11 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है,जिनमे 2 पूर्व प्रधान और एक वर्तमान प्रधान का पति है,खास बात यह है कि पुलिस ने दिवपक्षीय मारपीट मे एक ही पक्ष के वर्तमान प्रधान पति रेहान, पूर्व प्रधान बाबू खां, पूर्व प्रधान नासिर, चंदा उर्फ आफताब, जाहिद, दाऊद, जीशान, फिरासत के अलावा निशात, शाकिर खां, फारुक को गिरफ्तार किया है।

बदायूं पुलिस की मानें तो गिरफ्तार किये गये सभी आरोपियों के खिलाफ रासुका के तहत कार्यवाही की जायेगी,लेकिन सवाल यह है कि धार्मिक स्थलों पर से लाउडस्पीकर हटाने वाली पुलिस ने मस्जिद के पास और नमाज़ के समय इस तरह डीजे बजाने की इजाज़त क्यूँ दी,और अगर कांवड यात्रा के लिये लाउडस्पीकर के इस्तेमाल की विशेष इजाज़त दी गई है तो फिर उसके लिये कौन सी गाईडलाइन बनाई गई है क्युंकि हाल ही में देश के अलग अलग स्थानो पर हुवे विवाद मे डीजे और लाउडस्पीकर का अहम रोल रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *